मुंबई एक नया सफ़र…

My love… सोल्जर
December 16, 2017
Poem- Kashh..
December 28, 2017

मेरा नाम अंगद है। मेरी age 24 साल है। बचपन से ही मुझे एक्टिंग और डांस का बहुत शौक रहा है। मैं एक्टिंग में ही अपना कैरियर बनाना चाहता हूँ। जिसकी वजह से मैं एक साल पहले भोपाल से मुम्बई आया था। जैसा कि लोग कहते है मुम्बई सपनों का शहर है और शायद यह सच भी हैं क्योंकि यहां सपने खूबसूरत तो है लेकिन सच कुछ भी नहीं, फरेब ही फरेब है। लेकिन कहते हैं न मुसीबत कितनी भी हो हम जीने की वजह ढूंढ़ ही लेते हैं।
मुझे मुम्बई आए करीब 2 महीने बीत चुके थे, मैंने एक चोल में रूम ले रखा था, मेरे साथ 3 लड़के और रहते थे, जो मेरी तरह यहाँ कुछ बनने आए थे। हम सभी struggle कर रहे थे तो जानते थे कि यहाँ अकेले रहना किसी जंग लड़ने से कम नहीं। मैंने अब तक लगभग 150 ऑडिशन दे दिए थे लेकिन मेरी किसी कमी या इंडस्ट्री में किसी से कनेक्शन न होने की वजह से अब तक कोई रोल नहीं मिल पाया था।
ऐसा ही एक ऑडिशन देने मैं अँधेरी के एक स्टूडियो गया हुआ था। यहाँ सामाजिक मुद्दे पर एक फ़िल्म बनने वाली थी जिसका ऑडिशन था। मैं पहुचने में थोड़ा लेट हो गया था और वहां इतनी भीड़ थी कि मुझे बैठने की जगह तक नहीं मिली। तभी एक लड़की आई और सबसे फिल किये हुए फॉर्म कलेक्ट करने लगी। वो देखने में इतनी सुन्दर थी कि मुझे यकीन नहीं हो रहा था कि यह कोई लड़की है या मैं सपना देख रहा हूँ। काली गहरी आँखे, काले बाल और हल्का गुलाबी चेहरा मानो किसी ने चाँद जमीन पर लाकर मेरे सामने खड़ा कर दिया हो।
उसने कट वाली जीन्स और टी-शर्ट जिसके ऊपर एक रेड एंड ब्लैक कलर की शर्ट थी। उसने सबसे फॉर्म कलेक्ट किये और मेरे पास आई मैं भूल ही गया था कि मैं ऑडिशन देने आया हूं और लेट हो गया हूँ। उसने मुझसे फॉर्म माँगा और मैं पागलो की तरह उसे देखते हुए सर हिलाये जा रहा था। तभी उसने तेज़ आवाज में मुझे जागते हुए बोला, फॉर्म कहा हैं…। मैंने हड़बड़ाते हुए कहा सॉरी लेकिन मैं लेट हो गया और फॉर्म! उसने मुझे डाँटते हुए कहा तो अब खड़े क्यों हो। जाओ और फॉर्म भरो मैं सारा दिन फॉर्म कलेक्ट करने तो नहीं खड़ी रह सकती। मैं भागते हुए गया और टेबल से फॉर्म उठा कर उसे फिल करने लगा, लेकिन पता नहीं मुझे क्या हो गया था। बार-बार मुझे उसी की आवाज उसी का चेहरा याद आ रहा था। मेरा ध्यान फॉर्म पर कम और उसे देखने में ज्यादा था। उसने मेरी तरफ गुस्से में देखा और मेरे पास आकर फॉर्म छीनते हुए बोली आप कर क्या रहे हैं। टाइम-अप होने वाला हैं।
अब वो मेरा फॉर्म फिल करने लगी थी। उसने मुझसे पूछा नंबर बताओ अपना, मैं बोला sorry… तो वो हँसते हुए बोली पागल फॉर्म भरना है। जल्दी नंबर बताओ। उसके बाद उसने मेरा पूरा फॉर्म फिल किया। मैंने उसे थैंक्स कहा। उसने बेस्ट ऑफ़ लक कहा और अंदर चली गयी। अंदर डायरेक्टर सर और टीम के कुछ लोग बैठे थे जो हम लोगों का सेलेक्शन करने वाले थे।
लगभग 4 घंटे बाद जब सभी के इंटरव्यू खत्म हो गए तब मेरा नंबर आया। मैं अंदर गया तो सभी ने रूखी आवाज में कहा आईये अब आप कौन से Dialog रट के आए है। मैंने कहा आप secuation दीजिये मैं परफॉर्म करके दिखाऊंगा।
उन्होंने कहा तुम अपने घर में आते हो और देखते हो, तुम्हारा सारा रूम बिखरा हुआ है, अलमारी भी खुली है और पास में ही तुम्हारा कुत्ता मरा पड़ा है।
मैंने अपनी परफॉरमेंस शुरू ही की थी कि वो लड़की आ गयी जिसने मेरा फॉर्म भरा था। वो जाकर सामने बैठे सर के पास खड़ी हो गयी। अब मेरा ध्यान उसी पर था और आज मैं डायरेक्टर से ज्यादा उसे इम्प्रेस करना चाहता था।
आज मेरी परफॉर्मेन्स में एक अलग ही जान थी। मेरा एक्ट कम्पलीट हुआ और सबके चहरे पर खुश थी। मैं भी आज अपनी परफॉरमेंस से सेटिस्फाइड था। सर ने कहा ओके आप बाहर अपना नाम, नंबर और घर का एड्रेस लिखवा दीजिये। रीति will inform you.
मैं घर चला गया लेकिन मेरे दिमाग से उसकी वो आवाज और चेहरा जा ही नहीं रहा था। मैं सारी रात रीति को ही याद कर रहा था। अगले दिन जब मैं अपने दोस्तों से उस ऑडिशन की बात कर रहा था तो एक अंजान नंबर से कॉल आया। मैं उठाया तो वो रीति थी। उसने कहा हेलो अंगद हियर। मैंने कहा यस बोलिये। तो उसने कहा मैं प्रोडक्शन हाउस से रीति बात कर रही हूँ। कल आप ऑडिशन देने आय थे….
#To_be_continue…

2 Comments

  1. Abhishek says:

    next part ka intzaar rahega

  2. Abhishek Maurya says:

    agle part ka intzaar rahega

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *