शायरी

December 31, 2017

कभी-kabhi

सांस लू तो तेरी खुशबू आती है, तेरी याद में मेरी जान जाती है। तुझे याद ना किया हो, इस पल ना हो! तेरा नाम न […]
December 28, 2017

Poem- Sapna

Socha na tha hum ese milenge, Ittefaq hi sahi, tumse milenge. Milna hi tha, fir kyu ese mile hum, Mil kar bhi na mil sake hum. […]
December 28, 2017

Poem- Kashh..

Bohot se bate baki hai tumse, Bohot se wade baki hai tumse. Bohot kuch khatam ho kar bhi, Ab bhi kuch khatam nahi hua. Waqt ke […]
November 17, 2017

Confidence..

हार जाने से नही डरता मैं। लेकिन कही हार न मान लू, इस बात से डरता हूँ मैं।
November 17, 2017

भूख..।

अगर भूखे रहने से भगवान खुश होते तो तो शायद..! मंदिर के बहार बैठा हर गरीब .. सबसे *खुशनसीब होता