thoughts

February 27, 2018

वो पूछते हैं हमसे

वो पूछते हैं हमसे हमारी ख़ता क्या है हमने कहा ज़रा इस दिल को देखिये, अब इसमें वार करने की जगह कहाँ है
February 27, 2018

जिस जगह इज्ज़त न मिले, वहां कभी सर मत झुकना, वरना लोग खेरात समझ कर कुचल जायंगे By- Aditya sen
February 27, 2018

अगर तुम अपनी self-respect गवां कर,

अगर तुम अपनी self-respect गवां कर, उसका प्यार खरीदना चाहते हो… तो यकीन मनो दोस्त, तुमसे ज्यादा नुकसान में कोई और नहीं… By aditya sen
February 27, 2018

अगर मेरे इज़हार से, तुम्हे इंकार है…

अगर मेरे इज़हार से, तुम्हे इंकार है… तो मेरे करीब होने का दिखावा किस लिए…
December 28, 2017

Poem- Kashh..

Bohot se bate baki hai tumse, Bohot se wade baki hai tumse. Bohot kuch khatam ho kar bhi, Ab bhi kuch khatam nahi hua. Waqt ke […]